वो मेरी माँ है

औरत के जिस्म से निकलकर औरत के हाथों में पलकर कभी गिरकर सम्भल कर , पकड़ा कर उंगली जो खड़ा कर देती है वो मेरी माँ है।। भरी बरसात की रातें या गर्म दोपहरी हो , काँटों की सेज सी […]

Quick Access